’सोपा’ उपाय ??

’फुकट ते पौष्टिक’ च्या ’पिपा’सेला आळा घालणारा ’सोपा’ उपाय.

कथा - कारखान्यातले भूत

भुतांच्या अस्तित्व शोधण्याचा प्रयत्न करणार्‍या मुलाची कथा

जी ढूँढता हैं....


जी ढूँढता हैं फिर वोही फुरसत के रात दिन...

हिवाळ्यात कोवळ्या उन्हात..
अंगणात बसून चटईवर...
बेकंबे घोकणे,बाराखडी कोरणे
मग उग्गाच थोडे लोळणे..
आईने केस विंचरून दिले की..
शाळेला पळत सुटणे
दप्तर टाकून पाठीवर..

जी ढूँढता हैं फिर वोही...


उन्हाळ्यात पेंगुळलेल्या दुपारी..
छपरांतून डोकावणारे कवडसे..
ते कासव टाकीतले इवलेसे..
किती गार गार वाटायचं..
हात लावलं त्याला की
ते बेटं अंग चोरायचं..
तळाला जाऊन लपत असे..

जी ढूँढता हैं फिर वोही...


पावसाळ्यात डबक्यात..
शाईची कलाकारी..
भेपकी उडवणे..
अन्‌ ’त्या’ तळ्यात
माझा पाय ’खपणे’...
उधाणलेल्या वार्‍यात
फिरवलेली चकरी..

जी ढूँढता हैं फिर वोही...


पावसाळी नदीतल्या कागदी होड्या..
भिंतीवरून मारलेल्या रेतीत उड्या..
कैर्‍या तोडणे..लाखोळी चोरणे..
गुरांच्या मागे धावत जाणे..
टोपलं घेऊन शेण गोळा करणे..
चाक ’पजवत’ गावात भटकणे
अन्‌ भातुकलीत राजा-राणीच्या जोड्या..

जी ढूँढता हैं फिर वोही फुरसत के रात दिन...


- १८ एप्रिल, २०१२ ,
 पुणे 

ज़िन्दगी गाती हैं मर्सिया


सुर्ख होते सबेरे
जैसे जलते अँगारे
मायूसी की दीवारें
बिखर जाती हैं खुशियाँ
ज़िन्दगी गाती हैं मर्सिया


शब्दों की सिलवटें
नज़्मों की कराहटें
दिल-धड़कन झूटे झूटे
हैरत में हैं काफिया

ज़िन्दगी गाती हैं मर्सिया


सपनों का आँगन
मर गया जोबन
सुखा भादो सुखा सावन
बैसाख जैसे हैं सदियाँ

ज़िन्दगी गाती हैं मर्सिया
 

मैं जो हूँ तर-बतर
शबो-सहर,आठों पहर
अश्के-दिल या खूने-जिगर
अपनी अपनी हैं कहानियाँ
 

ज़िन्दगी गाती हैं मर्सिया

जिस्म के ताबूतों में
बेजान बुतों में
 
दिखावटी रुतों में
रूहों की हैं परछाइयां

ज़िन्दगी गाती हैं मर्सिया


उम्मीदों का मर्सिया
सपनों का मर्सिया
रिश्तों-नातों का मर्सिया
हर लम्हा हैं मर्सिया
ज़िन्दगी गाती हैं मर्सिया


Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More