’सोपा’ उपाय ??

’फुकट ते पौष्टिक’ च्या ’पिपा’सेला आळा घालणारा ’सोपा’ उपाय.

कथा - कारखान्यातले भूत

भुतांच्या अस्तित्व शोधण्याचा प्रयत्न करणार्‍या मुलाची कथा

ग़ज़ल:- अच्छे दिनों के सारे तमाशाई है

क्या खूब चर्चे हैं! क्या पज़ीराई* है!
दीवानगी है क्या! क्या मसीहाई है!
आसार है के 'आँधी' चलेगी फिर से
इन हवाओं से अपनी शनासाई* है
इतिहास की पुस्तक में पढ़ेंगे बच्चे,
'सब बाप-दादाओं की मुनाफ़ाई है|'
चौपाल पर पत्ते कूटते बैठे हैं
अच्छे दिनों के सारे तमाशाई है
सच बोल देता हूँ भरी महफ़िल में
अपनी यही आदत जान पर आई है
-- संकेत,
नई दिल्ली,
१२ अक्टुबर, २०१४

*पज़ीराई = आवभवत, स्वागत, reception
*शनासाई = परिचय, acquaintance
------------------------------------------------------

विडंबन - अशी कबुतरे येती

अशी कबुतरे येती;
आणिक घाण ठेवुनी जाती
दोन घरांची पुण्यकमाई
दहा घरांच्या खाती
कपोत आला, पहिला वहिला
खिड़कीमागे उभा राहिला
तया मागे, येई साजणी
गूटर्गूच्या साथी...
दुरून येती थवे देखिले
मी ग्याल्रीचे दार लोटिले
धड़क मारती तरी निरंतर
गंधित झाल्या भिंती
पंख दोन ते हळु फ़डफ़डले
खोलीभर मायेने फिरले
हॉलकिचनाच्या भिंतीमधुनि
लागेना मज हाती
'पुण्यवान' तो येता गाठी
शिव्या पाच मोहरल्या ओठी
त्या तुटल्या दातांची गाथा
क्रूर कबुतरे गाती

-- स्वामी संकेतानंद,
१५ ऑक्टोबर, २०१३,
नवी दिल्ली

ज्याचा त्याचा ग़ालिब [ विडंबन- हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी ]


१) वैतागलेला मतदार
हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे ’बम’ निकले
बहुत निकले मेरे ’नोटा’ज़, लेकिन फिर भी कम निकले

२) ताई
डरे क्यों मेरा दादा, क्या रहेगा उसके होटों पर
वो ’सू’, जो डॅम-ए-तर से उम्र यूँ दम-ब-दम निकले

३) ’ नो उल्लू बनाविंग’ मोडमध्ये असलेला मतदार
निकलना ’आय’ से ’साहब’ का सुनते आये है लेकिन
बहुत चालाक अब होकर तेरे चन्गु‌ल से हम निकले

४) साहेब !
अगर तुड़वाये कोई उनकी ’युति’ तो हमसे तुड़वाये
हुआ घोष और सर से पाँव तक बन बेशरम निकले

५) भ्रमनिरास झालेला मतदार
बिजेपी में नहीं है फ़र्क पापों और पुण्यों का
उसी को खेंचकर लाते है जिस गावित पे दम निकले

६) मनसेकडे पर्याय म्हणून बघणारा मतदार
ख़ुदा के वास्ते पर्दा न इन्जन से उठा ज़ालिम
कहीं ऐसा न हो याँ भी वही खोटे करम निकले

७) पृथ्वीराजबाबा
कहाँ एन्सिपी का दरवाज़ा ’स्वामी’ और कहाँ भाजप
पर इतना जानते है कल वो जाता था कि हम निकले

-- स्वामी संकेतानन्द 
नवी दिल्ली,
०१-१०-२०१४ 

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More