’सोपा’ उपाय ??

’फुकट ते पौष्टिक’ च्या ’पिपा’सेला आळा घालणारा ’सोपा’ उपाय.

कथा - कारखान्यातले भूत

भुतांच्या अस्तित्व शोधण्याचा प्रयत्न करणार्‍या मुलाची कथा

ये ज़मीं हैं सितारों की

हम कहें क्या कहानी अजी , बदगुमाँ इन बयारों की
जब समझ ही न पाए ज़ुबां, आज भी यह इशारों की

चंद बूँदें लहू की गई , तो क़यामत नहीं आई
तलब तो मिटेगी सही, कुछ लहू के बिमारों की

अब यहाँ जिस्म तो बिक गया, मोल तो हो अनाजों का 
ये कहानी नहीं काफिरों , हैं हकीकत बज़ारों की

बख्श दो फिसल जो हम गए, आपकी आशिकी में यूँ
कुछ खता तो हमारी रही, कुछ रही इन बहारों की

आज अखबार पढ़ के मुझे, ये पता तो चला यारों
ये नहीं अब हमारी रही, ये ज़मीं हैं सितारों की 

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More