ग़ज़ल:- अच्छे दिनों के सारे तमाशाई है

क्या खूब चर्चे हैं! क्या पज़ीराई* है!
दीवानगी है क्या! क्या मसीहाई है!
आसार है के 'आँधी' चलेगी फिर से
इन हवाओं से अपनी शनासाई* है
इतिहास की पुस्तक में पढ़ेंगे बच्चे,
'सब बाप-दादाओं की मुनाफ़ाई है|'
चौपाल पर पत्ते कूटते बैठे हैं
अच्छे दिनों के सारे तमाशाई है
सच बोल देता हूँ भरी महफ़िल में
अपनी यही आदत जान पर आई है
-- संकेत,
नई दिल्ली,
१२ अक्टुबर, २०१४

*पज़ीराई = आवभवत, स्वागत, reception
*शनासाई = परिचय, acquaintance
------------------------------------------------------

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत:

टिप्पणी पोस्ट करा

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More