देव गंधार

तुम जब देव गंधार गाती हो
संसारबंधनों में जकड़ जाती है
फिर से यह विमुक्त आत्मा 

तुम्हारे नीरजनयनों के
नीर से भीगे भावुक पल
पुन: लौट आते हैं 

और तुम से दूर जाने का
मेरा हर एक प्रयास
तुम्हारे अधरों पर थम जाता है

-संकेत

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत:

टिप्पणी पोस्ट करा

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More