उपरांत


चंदन पर खिलेंगे
पावक-मुकुल
धरा और व्योम
भावुक, व्याकुल

दाह दमकेगा
कोपल कोपल
संध्या सुरभित 
सांद्र सोनल

अस्वस्थ स्वर
क्रंदन विमल
जीवन चक्र
सम्पूर्ण सुफल

लौट जाएँगे
मानुष विकल
विदग्ध काष्ठ
अचेत शीतल

दीप्तिमान किन्तु
समय का स्मृति-पटल
अविरत...
अटल.

- संकेत

टिप्पण्या

या ब्लॉगवरील लोकप्रिय पोस्ट

निबंध :-- माझे आवडते पक्वान : हलवा

माउस पाहावे चोरून !

काही चारोळ्या - १

'मर्ढेकरांची कविता' : बेकलाइटी नव्हे, अस्सल !

द ग्रीन फ़्लाय